Tahzeeb Hafi Best Two Line Shayari

Umr-Kat Gayi-Tahzeeb-Hafi


Teri Taraf Chale To Umr Kat Gai.

Ye Aur Baat Hai Ki Rasta Kata Nahin.

 

तेरी तरफ़ चला तो उम्र कट गई

ये और बात है की रास्ता कटा नहीं।


Dastan Hun Main Ek Tawil Magar.

Tu Jo Sun Le To Mukhtasar Bhi Hun.

 

दास्तान हूँ मै एक तवील मगर,

तू जो सुन ले तो मुख़्तसर भी हूँ।


Yu Nahi Hai Ki Faqat Main Hi Use Chahta Hun.

Jo Bhi Us Ped Ki Chhanv  Men Gaya Baith Gaya.

 

यू नहीं है की फ़क़त मैं ही उसे चाहते हूँ।

जो भी उस पेड़ की छाँव में गया बैठ गया।


Itna Mitha Tha Vo Ghusse Bhara Lahja Mat Puchh.

Us Ne Jis Ko Bhi Jaane Ka Kaha Baith Gaya.

 

इतना मीठा था वो घुस्से भरा लहजा मत पूछ,

उस ने जिस को भी जाने को कहा बैठ गया।


Apna Ladna Bhi Mohabbat Hai Tumhen Ilm Nahi.

Chiḳhti Tum Rahi Aur Mera Gala Baith Gaya.

 

अपना लड़ना भी मोहब्बत है तुम्हे इल्म नहीं,

चीखती तुम रही और मेरा गला बैठ गया।


Baat Dariyaon Ki Suraj Ki Na Teri Hai Yahan

Do Qadam Jo Bhi Mire Saath Chala Baith Gaya

 

बात दरियाओ की, सूरज की, न तेरी है यहाँ,

दो क़दम जो भी मेरे साथ चला बैठ गया।


Ye Ek Baat Samajhne Me Raat Ho Gai Hai

Main Us Se Jeet Gaya Hun Ki Maat Ho Gai Hai

 

ये एक बात समझने में रात हो गई है

मै उससे जीत गया हूँ की मात हो गई है


Wo Jis Ki Chhanv Mein Pachchis Sal Guzre Hain

Wo Ped Mujh Se Koi Baat Kyun Nahin Karta

 

वो जिस की छाव में 25 साल गुज़ारे है,

वो पेड़ मुझसे बात क्यों नहीं करता|


Mahaz-E-Ishq Se Kab Kaun Bach Ke Nikla Hai

Tu Bach Gaya Hai To Khairaat Kyun Nahin Karta

 

महाज़-ए-इश्क़ से कब कौन बच के निकला है,

तू बच गया है तो खैरात क्यों नहीं करता|


Main Jis Ke Sath Kai Din Guzar Aaya Hun

Wo Mere Sath Basar Raat Kyun Nahin Karta

 

मै जिस के साथ कई दिन गुज़र आया हूँ,

वो मेरे साथ बसर एक रात क्यों नहीं करता|


Thak Jaata Tha Badal Saaya Karte Karte

Aur Phir Main Badal Pe Saaya Karta Tha

 

थक जाता था बादल साया करते करते

और फिर मै बादल पे साया करता था


Meri Aankhon Pe Do Muqaddas Hath

Ye Andhera Bhi Raushni Hai Mujhe

 

मेरी आँखों पे दो मुक़द्दस हाथ,

ये अंधेरा भी रौशनी है मुझे।


Main Sukhan Mein Hun Us Jagah Ki Jahan

Sans Lena Bhi Shairi Hai Mujhe

 

मैं सुख़न में हूँ उस जगह कि जहाँ,

साँस लेना भी शायरी है मुझे।


Tere Hi Kahne Par Ek SipaHi Ne

Apne Ghar Ko Aag Laga Di ShahzaDi

 

तेरे ही कहने पर एक सिपाही ने

अपने ही घर को आग लगा दी शहजादी


Mai Tere Dushman Lashkar Ka Shahzada

Kaise Mumkin Hai Ye Shadi Shahzadi

 

मै तेरे दुश्मन लश्कर का शहज़ादा

कैसे मुमकिन है ये शादी शहजादी


Main Ki Kaghaz Ki Ek Kashti Hun

Pahli Barish Hi Aakhiri Hai Mujhe

 

मैं कि काग़ज़ की एक कश्ती हूँ,

पहली बारिश ही आख़िरी है मुझे।


Shayari is the way to express your feeling in words. Here we are providing you the Tahzeeb Hafi Two line Shayari, Best Hindi Shayari, Urdu Shayari, Sad Shayari, Love Shayari, Urdu Shayari in Hindi, Hindi Poetry, Urdu Poetry, Hindi Sad Shayari, Urdu Shayari Image, Ayan Khan Shayari, Rekhta, Bewafa Shayari, Hindi Shayari Image for WhatsApp Status. Tahzeeb Hafi Two Line Shayari, Tahzeeb Hafi Ghazal, Umr kat Gayi, Two Line Shayari
You can visit Urdu Hindi Shayari for Ghazals, and Image Shayari, Dard Image Shayari Love Shayari, Urdu Shayari Hindi Shayari Hurt touching Status, Hurt Touching Shayari and don’t forget to share and subscribe for the latest updates.

1 thought on “Tahzeeb Hafi Best Two Line Shayari”

  1. Pingback: Tera Chup Rahna Mire Zehn Me Kya -Tahzeeb Hafi ⋆ Urdu Hindi Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *